0 {४ ततमत ^

“~ शध १५७६. # [व

[अ

=

=

~

1114411111[101१ ४7111 [द 9, 1111 <

2 43 =| 22 ८५ 4 1) | > | ०4 ४. ~~ 3 ~| 4} | > <4: त्र चः

वावृ श्रीवहादुर सिंहजी सिधीके पुण्यश्छोक पिता जन्म-वि. सं. १९२१, माग. वदि श्नं खर्मवास-वि, सं. १९.८४, पोय सुदि

[व १1 पथ रत

कि पि

1 भे

वन

--५ ०५

[क , क) श्र

+

= ९४८१

$# ५.

. #

"द

-- = ।। 1 | 1 1 + संकृतिप्रिय दानश्षील-साहित्यरपिरु- £ ख. ग्रीवातरू वदादुरसिंदजी सिघी

1---~-

1 "~ ~ 6

^ 1 +

पष भु {= जः सो - 1 ४, | = >. | + ` अजीमगज-क्टक्त्ता

1 जन्म ना २८-६ १८८५] [न्यु ता, ७१९४४ ४] ॥।

भ्य (=

"र~

<~ ~

(~

| (8

= + नस~

सि चाञजवप्न्यखाला

९64१9४९ ५१४९५१०५१५५१.१५५ ग्रस्थांके ११ 1) 11

श्रीजिनेश्धरसूरिविरचित कृथाकोषप्रकृरण

नि कज {& {= अलपद्यीनिष [९] {

ना मोन मानना

्लत्रा वन 5285

,९५०११११५१११०००००१११[ वृ (ऽहि 11 1१११५०११ ५००४५४४ ^ ^ ४084 २44 5.414.4. 0६ इये गण ए^ ६4 ऽष

| कटकन्तानिवासी पाष्वरित-यरधिवयं श्रीमद उाख्चन्दजी सिध पुष्यस्तिनिमिच प्रतिष्टापित णं ्रकादित 9 सिद्वा अव शन्धनाट [ जन धागमिक, दादानिकः, सादिलिक, येतिटासिक, त्रकानिक, कथात्मक ~ दादि विविधविपयगुम्पिवि $

गराछ्न्त, खसकरचर, यपञ्चंदा, पराचीनमूजर - राजस्थानी चाद्रि नानामापानिवद्ध ; सा्थजनीन पुरातन चादाय त्था नूतन संशोधनात्मकर साहिल थकादिनी सरवश्र्ट जन प्रन्थात्रलि, ]

भ्रति्टावा श्रीमद-रादचन्दयजी-सिधीसत्पव

सख्र° दानररीट -सादित्यरसिकः - संस्करतिपरिय श्री मद्‌ बहादुर सिहजी सिंघी

(व 5

1

^ नना ~ -{21। (५1.31; श, ४, 112 = ४९. 1 = कि) ५४६८३. ^ ५० ९१८९८ [रि 4 { ¦ 9: (7

नी)

भधान स्म्पाद्क तथा संचाटकः & आचाय जिनविजय मुनि

{ सम्मान्य नियामक ~ भास्तीय विद्याभवन, चवई )

स्कार संरश्चकः

श्री राजेन्ढ सिंह सिंघी तथा श्री नरेन्द्र सह्‌ सधी

पक्ाद्राचक्रता

सिधी जनदराख शिक्षापीठ

भस्ताय क्द्याभमवर्नं घव डं

नि 1 त्रकादाकृ-जयन्तद्रप्ण इ. द्वे, अओनररी रजिस्टर, भारतीय वर्या मवन, चपारी रेड, ववद खरक्-समच्छ चतु. दाय, निणवसागर्‌ त्रत, ५६-२८, कौकमाट स्ट्रीट, अटनदेवी, ववद

1;

विधिमार्गपरकारक-श्रीजिनेन्वरसूरिविरवित [श्रान्त भावामय]

कथाकोषप्रकरण

[ग्गेप्ञम्पाग््या समयेन मृ धाटृढं गायाव्रद्र तथा विविध फएधानङ संयु पथं भुविष्ठृत दन्द परघ्तावना, परिरिए नादि समरश्य ]

संपादक आचाय जिनविजय युनि

[मपिष्टाता -सिथी जेनसाख दिक्नापीट तथा सम्मान्य नियामक - मार्तीय पिया भयन प्रपर]

श्रकाद्ाकंः

सिघी जेनराख्रिक्षापीठ

भारतीय विया भवन ववद

विम्य १००५] श्रयमाद{द पथटरद्रद्ि [ १९१९ तिश्नन्यु

~= "~~~ --

------~---~-~--* ~~~

प्रन्शंर ११] [म्‌ स्५ १०-८-४

11. 1.1 17.91.81. 7:01 11

द्‌ @07.1.&410 08 7747. 52171075 © 114 02274 7 7 = 10 (4 2764, 516 50 = 14६. 75704 7.+ 21754 ६, 1424474 47१2 07 2 ८०5 2 व्य व्याव, 5.5 व्य7+ 45484454 4 07.25 24445724 ल्व 477 2.49 0८4@55, 2 © ५४ 5705255 ८04774४7 प्८54 7८ 5८4 0745

- 1.5.52 81.15 त्र त्प 82622 -काण0 02 ०8 84 वन 2602-5

0.4.694. पलत

0 (4.1.71 124 18 1.27 0 पठता 50

12 पाप 4571.॥ ~ दान त6511 ~ 56 < ६7716 8.4 6717 अभलप्षां उपला रद्र प्र लार 81. ए01707्‌

20८7४ पानि? भप [एकरा

(षण, 27८८005 - उम 2.2८ 4. एर .6. ८4.967 ८0745.2.8)

ग्रा (ष 770 501507१. 0.

शिष्ठ ^ वफारा॥ प्लत सा7८प्ता १४. जि 4 णार). सा प्लप्त लपा एएछउट

प्रलापा चाप 24 इरञ्‌ शाण + | 214 र^1%*^ «10४ 28 प्त:+४ ^ धि

ऋक द) गश +त कः

1८6 084. 241८841

0

1.4 11.11:110.8 1. 71:)1

(द्वन ^) ^ शााए छा) पष्ठ कपद्द, एकप पा कः 380६ अ7द्0प्लयायएक 1 पशा

1:24

८7 प्‌ साप 70

एएएाण8छ ६० छट शफपका गपा 8/8 इप्सा 214 ९4711४4 *17४4 814४4}

७४०११३५

लल

इ, ए. 5204 41 दध्न 1549 ^. ए.

"५, 1५०. 1 {1} % { {7155 २७. {0-६-0

व्िवीज्ैयय्न्ययालाछस्थापक्रप्रसास्तिः

[न

असति वद्धाभिपे देशे सुप्रसिद्धा मनोरमा ! सुसिदावाद्‌ दयाख्या पुरी वैमवद्याद्टिनी

बहवो निवसन्यव्र जना उकेर्वशजाः धनाच्या चपरम्मरान्या धसकर्मपसयणाः श्रीडाटचन्द दरल्यासीत्‌ तेष्वेको वहभाग्वानू साधुवद्‌, सचरि्रो यः पिघीङ्टप्र माकरः वाद्य एवागतो यश्च कठं च्यापारचिच्देत्तिम्‌ काटकात्तामटापुया पुर्या टतधर्मा्धनिश्यः ऊदारीयस्ववुद्रैव खदुस्या सुनिषटया 1 उपायं वियु टः मीं प्ोोव्यधिपोऽजतिष्ट सः तस्य मनु्कमारोति सचारीटधटसण्डन! जत्‌ पतिव्रता पत्री श्रीख्यामास्यगूषणा + ; श्रीवहाटरसिदहाव्यो गणर्यौस्नयस्यो {१ अमतत सुदता दानी ्म॑प्रियश्च धीनिचिः ।॥ ^ भ्रा पुण्यवता तेन पती तिटकसुन्दररी यस्याः सामागयचन्देण भा्ठितं त॒ल्कृटास्वरम्‌ श्रीमान्‌ राजेन्द्र सदोऽ च्येष्टपुत्रः सुधिधषितः 1 यः सर्वकायद्क्षत्वात्‌ पिच्दक्षिणनहूुवत,

नरेन्दर्सिह दत्याख्यस्तेजसी मध्यमः युतः सुवुर्वरिन्द्रसिदश्च कनिष्ठः साम्वदक्तषनः 4० सन्ति त्रयोऽपि सत्पुचा याष्ठभक्तिपरायणाः 1 विनीताः सरस भव्याः पितुमागुराभिनः ११ सन्येऽपि वहबसखाभवन्‌ खलादिवान्धवाः 1 धनजनः सदद्धः सनु रानेत्र ग्यरालत्त १२

सन्यद्~

सरखयां सदासक्ते भूत्वा रदमीग्रियोऽप्ययम्‌ 1 तत्राप्याघीव्‌ सदाचारा उचित्रं चिप चदु १६ नाहेकारो दुभ॑वो विरासो दुव्य॑यः चः कदापि तद्ग सतां तद विखयास्यदम्‌ ५४ भक्तो गुरुननानां विनीतः सजनान्‌, प्रति अन्धुजनेऽनुरकोऽभृत्‌ शीत्तः पोप्वगणेप्ववि १५ दरा-करखस्यितिोऽसौ चिया-विक्ानपूलकः 1 दतिदासादि-पादिव्य-संसछृति-सत्कलापियः ` १६ सयु्नत्यै समाजख धर्मस्याकरषदैतयं 1 प्रचाराय शिक्षाया दत्त तेन ध्न घनम्‌ १७ गत्वा समा-समिलदा भू्वाऽध्यक्षपदान्वितः } दृच्वा दूर्न यथायोग्यं परोव्छाहिताश्च कर्माः १८ एवं धनेन देहेन जानेन ञुभनिषटया सकैत यथाशक्ति सत्कर्माणि सदाशयः ५९ अथान्यद धरसद्वेन खपितः स्प्रतिदैतवे कठं किचिद्‌ विशिष्टं काय मनखविन्तयव्‌ २०

पूज्यः पिता सदवासीद्‌ सम्यग्‌-जानरचिः स्वयम्‌ तसाद तप्नानद्द्धयथं यतनीयं मयाऽप्यरम्‌, २१ विचार्य्य खयं चित्ते पुनः प्राप्य सुलम्मतिम्‌ श्रद्धास्पदृखमित्राणां चिटुपां चापि ताच्याम्‌ २२

जेनद्धानम्रसातथं स्थाने च्ान्तिलिकेतने) सिषीपदद्वितजनङ्वान पी मतीष्टिपत्‌ २६ श्रीजिनविजयः प्राखो स्युनिनान्ना विद्युतः खीकूत प्रार्थितस्तेन तस्याधिष्ठायकं पदम्‌ रे तस सोजन्य-सौदार्द-ख्यौदायीदिसटभेः ! वरीभूय युदा येन खयीछ्तं तत्पदं वरस्‌ २५ कदीन्द्रेण रवीन्परेम सीयपावनपाणिना 1 रर्स-्नगाद्वै-चन्द्रादे तदघिष्ठा व्यधीयत 1 , २६ परार्धं सुनिना चापि कार्यं तदुपयोगिकम्‌ पाठनं ्ानकिम्बूनां तथैव अन्धयुस्फनम्‌ २७

तदेव प्रेरणां प्राप्य श्रीसिघीकुखुकेुना खपिदरश्रेयसे चषा प्रारन्धा यन्थमालिक्रा

२८ - उदारयेतसा तेन धर्मश्ीटन दानिना च्ययितं पुष्कर न्यं तत्तत्कावसुक्षिदधये , २९ छावाणां ब्रत्तिदानेन नकेषपां विदुपां तथा ज्ञानाभ्यासाय निष्छामसषहाय्यं प्रदत्तवान्‌ ३० जटवास्वादिकान तु प्रातिक्रूस्यादेसों सनिः कोयं च्रिवाापके तत्र समाप्यान्यत्न चासतः ३१ तत्रापि संतत सव सादाय्यं तेन यच्छता अन्धमाटप्रकाञ्चयय महोत्साहः अदूरतः ३२ नन्द-निष्येद्ध-चन्दष्दें जाता पुनः सुयोजना अन्थावस्याः सविरत्वाय विस्रराय नूतना तत्रः सुत्परामन्नात्‌ किदीर्वलनमस्ववा भाषिद्याभ वना येयं अन्यमाञा ससर्पिदा द.९ आसीत्तसय मनोवान्छाऽपू्रौ अन्थत्रकादयने तदर्थं च्ययिर्तं तेन रक्षावेधि हि रूप्यकम्‌ ३५

टंखासाद्‌ चिन्त दन्त दमोग्याच्चात्मवन्धूनाम्‌ स्वस्पेनवाथ कटेन सवग सुकृती यथो] इन्टु-ख -द्रून्य-नेत्रष्दे मासे आपाढसन्कके कटिकाताख्यमुया पराप्तवान परमां गतिम्‌ ३७ पिरभक्तेथ तद्ुत्रेः प्रेयसे पितुरात्मनः तथैव अपितुः स्द्रये भकाद्यतेऽधुना पुनः

2८ दवं यन्थावरिः श्रेष्ठा प्रष्ठा मरक्ञावतां यथा याद्‌ भूलें सर्ता सिघीकुर्कीर्तिप्रकादिका॥ ३९ विद्रननकृताह्वदरा सचिदानन्ददा सद्‌ा तिरं नन्दस्य खोक श्रींघी अन्यपद्धतिः . ` ४०

4

रः

# सिधीनग्रन्धमालासम्पादकप्र स्तिः

म्वछ्ि श्रीमेदपार्यो देशतो मारतबिश्चुवः रूपिटीति सब्राप्नी पुरिफा ततर सुखिता संदाचार-विचाराम्यां ध्राचीननरपतेः समः 1 श्रीमचतुरसिंद्योऽत्र रारोडान्वयभूमिपः

तत्र धीग्रदि्तिहोऽभद्‌, राजपुयः भसिद्धिमाङ्‌ क्षएचधर्मेधनो यश्च परमारङ्टाम्रणीः सुश्च-मोजसुखा भूषा जाता यसिनू महाङुटे फं वण्यते छुीनन्व वकुङजातयन्मनः पत्नी राजकुमपरीति चसयामृद गुणसंहिता चतुर्य-रूप-खावण्य-सुवाक्सौयन्यभूषिता 1 क्षत्रियाणीम्रमापूर्णा शोर्योदीषयुखाङृतिम्‌ ! यां ददरैव सनो मेने राजन्यङ्खजा न्वियम्‌

पुः कि्तनसिदाख्यो जातस्तयोरतिग्नियः ! रणमदं इनि चान्यद्‌ यन्नाम जननीम्‌ श्ीदेयीर्दसनामाञऽत्र राजपूज्यो यदीश्वरः 1 उयोतिभपज्ययिद्यानां पारपामी यनेप्रियः

आगतो मर्देदाद्‌ यो भ्रमन्‌ जनपदान्‌ बहन्‌ जातः धीटदििहस्य प्रीतति-परद्ास्पदं परम्‌ तैनाधाध्रतिममनेम्णा वत्सूनुः स्वमन्रिधौं रद्ितः, दिक्िवः सम्यङ्‌, कृतो जनमवाजुगः दीर्माग्यात्‌ तच्छिशोर्वाय्ये गुर्वादौ दिर्वगतौ 1 विमूटः खगरदयात्‌ सोऽ यदच्यया विनिर्गतः #

तधा च~

आन्त्वा तैकेषु देषु सेपिशवा वदन्‌ नरान्‌ दीक्षितो सुण्डितो भूत्वा जातो अनसुनिखतः क्तावान्यनेकशास्राणि नानाधर्ममठानि मण्यस्यदृत्तिनां तेन तातदयगचेपिणा सधीता विविधा मापा भारतीया युरोपजाः अनेका छिप्योऽप्येवे भ्रवर-नूनकाटिकाः येन प्रकारिता मैक न्या विद्वमरसिवाः 1 छिपिता वयो रेखा पेतिद्यतध्यगुम्फिताः यहूभिः सुवरिद्रह्मिलन्मण्डलैश्च सत्कृतः जिनव्रिजयनाश्नाऽसो रयातोऽसययः मनीपिपु यस्य वे चिशरुततिं क्षात्वा चीमदुगान्धीमद्दारमना आहूतः साद्रं पुण्यपत्तनाव्‌ स्वयमन्यदुा पुरे चादम्मदुाबदे रा्रीयशिक्षणाठयः चिचापीट इति ख्यातः प्रतिष्टितो यदाऽमवत्‌ माचायत्येन त्रोचर्मियुक्तः मदादमना रद-मैनि-निधीन्देव्दे एरातत्त्याग्यमन्द्रि वर्पाणामष्टकं यावद्‌ सम्मूप्य चत्‌ पदं तवः \ गत्वा सर्मनराष्रे तरसंस्छृतिमधीववान्‌ वत साग सनो राष्रका्ये सच्ियिम्‌ कारावासोऽपि सम्पराक्षो येन स्वराभ्यपर्वणि श्रमाद्‌ तठो विनि सितः शान्विनिपेःने विश्ववन्यकूदीन्द्श्रीरयीन्द्रनाथगभूषिते विपीपवयुवं नश्वागपीटं वदध्वम्‌ स्यापिते तत्र सिषीश्नीडार्चन्दुस्य सूनुना श्री्ह्दुरिरेत दग्रे धीमतः + स्र रितताठ विरानपस्यरकण् प्रतिषटितश्च तस्यासौ पदेऽपिष्ठातूतन्कष्टे ! अध्यापयन्‌ वरान्‌ दिप्यान्‌ अन्यन्‌ सेनवाद्यम्‌ तस्व प्रेरणां प्राप्य धीर्विधीकुख्केतुना स्वपिदठ्धेयसे देषा प्रारन्धा अन्थमाटिका भवं विगतं मस्य वर्पाणामष्टकं घनः अन्वमाछादिकामारयपरटचिपु मयस्यतः अाण-रै-यनद्नदे सुवाईनगपीर्यिवः ! संशीति बिस्दस्यातः कन्डेयाखारीसखः 1 भ्र्चो भारतीयानां दियाना षीठनिर्मिदो कर्मनिष्ठसख वस्याभूव्‌ प्रयघः सफणोऽचिरात्‌ विदुषां शरीमां योगात्‌ संस्था जाता भतिष्ठिवा ! मारतीयषदोपेदद्धिधासवन सन्छवा॥ भाहूतः सहकाराय सुहृदः सुनिः कृती 1 ततः यणवि तपापि खदयोगं भदचचान्‌ तेद्भवनेऽन्यदा सख्य सेवाऽथिङा पेश्चिदा 1 स्वीकृता नब्रभायेन रराऽप्याचा्येपदाधिता नसिदु-निभ्य-चच्दान्दे चैक्मे विहिता पुनः ! एतद्‌ शन्यावखसर्यहृद्‌ तेन नम्ययोजना परमर्प्णत्‌ सदसखस्य ध्रीिपीडकभास्वा \ माविद्यामवनायेयं अन्थमारा समर्पिता भद्ा दृशसादक्नी पनसछस्मोपदेरातः 1 स्वपिनृर्ट्रतिमन्दिररूरणाय सुीर्विना देवादेद्प गते कटे सिंथीवयं दिवंगतः 1 यस्य श्ञानसेवायां सादयय्यमकरोन्‌ मदव्‌ पिवृक्ा्ेभगवयर्यं यत्तदीङखदाष्मनैः रजेन्द्रसिदमुस्यै सतं पदूवचसतः पुष्यश्छोकपितु्नास्ना अन्थागारकृतते पुनः यन्धुज्येे गुणग्रटे द्यदुरश्च प्रदच्तयान्‌ अरन्थमादाप्रसिद्ा्थं पिक्वतचस्य किवम धीतियीयन्धभिः सनं वदगिराऽुविधीयते दिद्रणनहृवाद्धादा सशनिद्रानन्दद्। तदा 1 वरं नन्दचियं छोके जिनव्रिजयमारवौ

१६ १४ १५ १६ १७ १८ १९ २०५ २१ रर २६ +; 9 २७ २८ १० ९१ ३३ दष्ट ३५ ३६ 1

` १९

४9

£! सैन ग्न्थुभ्राख ----4 जचावधि सुद्वितय्नन्थनामावि &=--- ` मेरु्ाचा्यैरचित प्रवन्धचिन्तामणि सूल | १२ यद्रोविजयोपाध्यायविरचित , तान विन्डुमक-

संस्छत अन्य, रण, २९ पुरातनप्रवन्धसं ग्रह बहुविध देतिद्यतथ्य- | १३. हिषेणाचानैरृत चह तकश्ाकोद्य. परिपू अनक निबन्ध सेचय. १४ जेनपुस्तकथ्रदास्तिखंत्रद, पथम भाग. राजरोखरसूरिरचित प्रवस्धकोदा. १५ दरिभद्रसूरिविरवित धूर्तीख्यान्‌. ध्व जिनप्रभस्‌रिकरत वि विध्तीर्थकदट्प, १६ दुगेदेवङ्ृत रि्समुजचय, मेषविजयोपाध्याकृत देवानन्द्‌ महाकाव्य. | १७ मेषविजयोपाध्यायछ्त दिग्विजयमहाकान्य, यदोविजयोपाव्याय्त ज्ञेततर्कभापा. १८ कवि भब्दुट रहमानछृत सस्देशससक, देसचन्द्राचर्यहृत प्रमाणमीमांसा. १९ मर्दरिकृत श्चतकजययादि.खुभापितसंम्रद. < भदकयद्ेबछृत अकलकत्रन्यनची २० यान्ाचार्यक्ृत न्यायावतारवार्तिकःवृत्ति, प्रवन्धचिन्तामणि-दिन्दी भाषान्तर. | २१ कवि धादिठ रचित पडमसिरीचरि, ९० प्रमाचनद्रसूरिरचित प्रभाव्रकचरित, २२ मदेश्वस्ृर्कित. नाणपंचमीकदा. ११ विद्िवद््ोपाध्यायरचित भाुचन्द्रगणि- | २२ भद्रवासंदिता. ` चरितः २४ जिने्वरसूरिकत कथाकरोपग्रकरण,

18 तग्यकतणण्वष्दकदषथः ©. एषणलः. ---> संप्रति सव्यमाणम्रन्थनामावटी &~--

सखरतरगच्छबरदद्गुर्वावकि. ` ` { १९१ -जयपाहुडनाएम निमित्तशाच्न, - 1; | १२ कोक्दलविरचित ठुीटावतीकथा (मृत). वाचस इ. २२ शुणचन््रमिरचित मंचीकर्मचन्द्रवंदाप्रवन्ध.

जेनयुस्तकग्रश्स्तिसययदह, भाग २. ~

विदिसंयह ` विदि थाट खमि | १० नयच्दविरनित दम्मीरमहाकान्. त्रिवेणी आदि अनेक वित्नप्निटेख समुचय. ९५ मदेन्रसकत. नमेदाुन्द्रीकथा, `

च्योतनर्खित वल्यमालाध्तथा,. . | १६ जिनद्‌्ताख्यानद्धय (त)...

टदय्॒रभूस्रिक्त धमोभ्युदय महाकाव्य. "| २७ खर्यभूविरचितः पडमचरिड (सप्र }.

कीर्तिकौसुदी आदि. वस्तुपालगरदास्तिसंमंह. |. १८ विद्धिचन्दरकृत काव्यय्रकारशलण्डन.

दामोदरकृत उक्तिव्यक्ति प्रकरण. ` . | -१९ जयतिंदस्‌र्कित घर्मोपदेदामाखा.

१० मदासुनि गुणमाख्विरचित अँव्रूचरिच (रात) २० कौट्व्य्रतं .अर्थल्ाख-सरीकः

^ धरि ~ > (4 ९“ ~ % सुद्रणार्थं निधौरित एवं सल््ीकतग्रन्थनामावलि .&&

माजुचनद्रगणिकरत षिवेकतिकसरीका. पुरातन रास-भासादिसंग्रद, २-प्रकी्ण वाखखय प्रकार. - .सिद्धिचन्धो- पाध्यायुविरचित वा्वदत्तादीक्रा. देवचनद्रसूरिकृत मूल्छदिप्रकरणवृत्ति. ` रतरधरमाचार्यकृत उपदेरामाल।. दीका. .ययोविजयोपाव्यायक्ृत _ जनेकान्तव्यवस्था. जिनेश्वराचा्यकृत प्रमालक्षण. ` ९..मदानिरीयृस्न, १० तरणप्रभा- नचा्य॑छृत यवद्यक्वरालाववोघ. १९ राठोढवंश्रावछि. १२ उपकेवगच्छ ग्रन्थ, १३ .वद्ध॑मानाचारयकृत .गणरन्नमदहोदधि, १८ प्रषिष्टालोमकृत सोमसीभाग्यक्राव्य. नेमिचनद्रकरत य्ीरातक ( प्रथक्‌ प्रथक्‌ वाठाववो यदुक्तः). १६ दील का. चाय विरचित मदाइद्पचप्तर (रात मदात्रन्य }. १९७.च॑द्प्यह्चरियं ( धात). १८ नेमिनादचसिवि-( यपर

मदामरन्य ). १९ उपदेगापद्रीका ( वरदमानाचार्यछ्त ). २२० निर्वाणलीलवती, कथा-( से, कथा मरन्य ); २९. सनककुमार्‌- चरित्र (संस्कत चछव्य्रन्य }. २०२ रालवदम पाठक्टेत भोजचरिव्र- २३ भरमोदमाणिक्यज्ृव बारभयारासत्ति, ` 4.1 सोमदेवादिङृत विद्र्धमुखमण्डनवत्ति. "2२५ समययुन्दरादिक्त वृत्तरतराक्ररछवि, २६ पाण्ठिलदर्मणः २७ पुरातन परबन्धसंग्रद-दिन्यी भापान्तर, २८ युवनमानुचसतर वाखाबवोध. २९. युवनछन्दरी चरित्र (ब्रा्तकथा ) दद्यादि, इवयादि,

विषयानुक्रमणिका

वाच्‌ श्री वहाटुरसिहजी सिंषी ओर सिघी जेन ग्रन्थमारा ~ स्र्णांजकि

भ्रास्ताविक वक्तव्य

णठ % कथाकेष प्रकरण ओौर जिनेन्वरसरि # प्रस्तुत कथाफ़ोष प्रकरणका प्रकाद्चन १-२ प्रस्तुतम्रस्थद्ति भात प्र्तियां जिनेश्वर घरिका समय ओर्‌ तत्कारटीन

परिखिति २-७ जिनेश्वर-सूरिके समयत्रे जेन यति जनकौ अवस्था अणदिष्ठपुरमें चद्यवासियोका प्रभाव जिनेश्वर सूरिका वचेल्यवासियोि मिरु सान्दोटन विधिपक्त मधचां खरतरगच्छको भरादुर्माव ओर गौरव ४1 जिनेश्वर खरिके जीवनकरा अन्य यतिजनेंपर भमाच (~ भिनेश्वरखूरिसे जनस्षमाजमें नूतन युगका। मरम भिनेश्यर सरि जीवनचरितका साहि ७-१९ घुद्धिसखागराचायङूत उद्ेख < जिनमद्वाचायेृत उदस्त १० भिनचन्दधषृरि्त उख 4; अभयदेवघ्रिरूत उस १२ ्डमानाचाथरृत उह्यस १३ देषमद्वाचार्यरृत उदछेख १२ जिनदत्तघ्रिरुत उदेख ५) जिनेश्वरप्ररिके चरितकी सादिलिक सामग्री २१ जिनेश्ररषरिकी पूरवाव्स्याङरा परिचयर र-२६ निने्रपररिकेः चिका सार २६-४३

अनुव

१९१६

गणधरसाधशतक तथा शरदद्गुर्याव

चङि बणैनजा सार २६३३ सोमतिटक््रि वार्भेत जिनेश्वर

सूरि चरितका खार ३२-३५ चद्धाया्य प्रवन्धावलिगत जिनेश्वर

सूरिफे चरितरा सारः २३६-३७

कथाओं सारांखका तारण २७ अणदिल्यपुर्के प्रसिद्ध जन मन्दिर

मौर जैनाचार्य ३८-४१ जिनेश्वर सूरिकी का्यलफठता ४१-४९ जिनेधर सरिकी ग्रन्यस्वना ४३-७२९

जिनेश्वरीय भन्थोके तिषथमें फु विदोप पिवेचन (२) दयारिमद्वीय अक भ्रक्ररणच्रखि ४४

(२) वेयवन्दनविचरण ४७ (३) पट्‌स्यानक धकरण ४९ (४) पचमी प्रकरण ५४

(५) प्रमारष्म अथवा भ्रमारक्षण ५७ (६) निचोणटीखावती कथ। ६० ज्ञैनक्रथासाद्िलयकफा कख | परिचय ६७ | नि्वौणटीखावती फथास्तास्का संक्षिप्त परिचय ७० (७) कथाकोङा प्रकरण ७६३-१२४ शाकिभद्रफी कथाका सार ७५ स्िदणुमार नामक राजकुमारी कथापन सार ७९ सैनसखाप्दाधिकः विचारक चर्चा कुत्छ चिभ्ण दर

यष्ट मनोर्थश्राचक्रकी कथाका सार रामका कहा हा छोक्रिक आख्यान दत्तका कदा हा आख्यान ८५ पाश्चैश्रावकका कडा इथ कश्ानक ८७ ति दश्वरकथानक ८८ यश्च भ्राचकका कथानकः ९९ वस्रदानपर धनदेवकी कशा ९६ जैनमन्दि्येकी पूजाविधिके विपयमं विचारणीय चचा द्द जिनमन्दिरके विधान विपयमं ध्रवख्वणिकपुच्की कथा ९.४ स्तदा सानीक्रा आद्यान ९८ सावचाचायैका आख्यान ९९. वणिक्पुत्र दशान्त १०० श्रद्एयचेद्‌ दोनेके सूचक कथानक २०६

शुखविसेधी मुनिचन्द्र साधुका कथानक्र १०७

भ्वोतताम्बस-दिगम्चरः संप सूचक कथा ११०

जन अर वद्ध भश्चुभकरिं सथपको कथा १६१

व्राह्मण धर्मीय साप्रदायिकाकि साथ जेन साश्रुयोंका संघपं

चिदडी मक्त कमख्वणिकुक्व कथानकः

सओोचवादी ब्राह्मण भक्त कौरधिक वणिकका कथानक

व्राद्यणक्रे उपद्र वसे जेन साधुकी रक्षा करनेवाले धनदेव श्राचक्रका कथानक १२

जिनेश्वर सूरिरा विविध विषयक श्राघ्यांका परिज्ञान

१९६ १६६

११९

१२३ परिदिष्छात्मक गगधरसाधैरत प्रकरणान्तगेत जिनेश्वर- परि चरित्वणैनम्‌ १-२२ सखरतरगच्छपट्मवबलिगतेष्टेख २२३-२४

कथाक्रोपश्रकरण सूलम्नन्थायुक्रम %

अन्यकारसूवितयभिवेयग्रयोजनादिकम्‌ 4 जिनपूजाचिपचक शुकमिधुनककथानकम्‌ ` २-१ + नागदत्तकथानकम्‌ ११-२१ 3) जिनदनत्त . >२१-२७ 9 सूरसना २७-३४ » - -श्रीमाटी 3 >०-२६ & ~ 39 रारनारी 3 २७-३८

निपयालुक्मणिका 1

पृ

जिनवन्दने विष्णुदत्त नागदत्तकथानकम्‌ २८-३९

जिनगुणगाने सिंदकमार धुचैयाचृच्ये साधुवेयाब्रस्ये भरत्चक्रवर्वि १० साधुदानफदट दाषटिभद्र

32 ^,

9

44 9 कृतयुण्य १२ आयौचन्दुना य्‌ 3 भृट्देव 3 १४ पूरश्रष्टि १८ 3 सुन्दरी 3 १६ ,„ मनोरथ

५,

[ समकथितलोकिकाख्यानकम्‌ |] [ दत्तश्राचक्कथिताख्यानकम्‌ ]

`

२९- १५० प्येष ` ५५,‰-& ६४६९ ७०७१ ७>२-७ध ७४७६ ७६-७4 ७८“

\७९.-८© ८०-८१

[ पाश्वेश्रावकोक्त पुण्डरीकाख्यानम्‌ ] ८२-८२े [ पाश्वेश्रावककथितमीश्वरास्यानम्‌ | ८२-८४

१७ 9 हरिणकथानक्छम्‌

१८ 4 धूवदुनि - 9) १९ वसतिदान" २० 5; - चदखदान. २१ वरश्राद्धु. . 3 २२ # सुभद्रा 5 मनोरमा

दरतसखनोन्रत्तिकरणविषयकश्चेणिक्र > २५ 9 2 दत्त . २६ श्रासनदोपोद्‌माव्रने जयदेव +, ` 2५ " देवढ

22) 2

२८ 28 द्द्‌ ˆ 1 २९ साधुगणदोषदरीने कोरिकवणि्‌ +,

२०

33 (^, कमठ 39 २३१ साधुजनापमाननिवारणे धनदेव- ;9

३२ विपरीतन्नानफटे धवख

[ सारयाचायेकथानकम्‌ |

[ बणिगूदास्कदश्ान्तः ]

३२ जेनधर्मो्सादप्रदाने भरधुन्नराज . + ३४ बरिपरीतधर्मकथाकरणे सुनिचन्दरसाघु + ३५ श्ासनोत्रतिकरणे -जयसेनसूरि ~+ . ३६ जनघर्मात्सादप्रदाने सुन्द्रीदत्त ` ^;“. कथानकगतवक्तव्यशेषम्‌ अन्थटेखक्ररसि

कथानककोशप्रकरण-मूलशघ्र्पाद. १८२-१८४

४७

ष) 1) ९.

८१०५-९ ९१-९२ ९२१ 9 ९४-९५ , ९५-१०१ १०१-१०४ १०४-१०५ 9 १०६-१०९ १०९-११२ ११२-११द्‌

` १३-१.१४

` ११०५११६

११७-१२५ १२५१६३५ १२९

(1

१३५-१५० - १५८०-१६०

१६०-१७१ १७१-१७९ १४७९ ` १८१

समर्पण ३५. यर्ै लिते जीवन्ते विदिष्ट वतरू्यापी दाखावगाहक, सौहार्दपूर्ण, सहचार एवं सहकार की सखद स्खतिके समुपलक्ष्याथं प्रज्ञाननयन-पण्डितप्रवर भरीसुखलालनी क्र करकमखमे

-जिनविजय

स्र° चाच श्रीं बहादुर दुर सि हजी सिध आर्‌ सिष्ी जन मन्धमाल

[ जय (1 <> {> 5. + [स्बरणाद्चष्ट [

सरीर अनस्य ्यादर्षपोवक, काययाधक, उरप्राद्प्ररक जर स्टय सधास्यदु वराग श्री यष्टर्‌ सिह्जी सपी, जिन्टानि मेरी पिरि प्ररणास सै, णपने ज्वमवाती चद्ठुदरित पिताश्री दाठ्चदृमी दिदीकधे पुण्यस्यरण निसित्त, दक विधी अन चनस्थमानयाण की कीतिद्धारिणीं रथाप करकः हसेः लिये प्रतिय जानं चपये दव करनैकी नाद्र ददाल प्ण्ट्फी थीः भर दिनकी पत्ती यसाधारण छानभक्तमैः स्थ॒ जनन्य लाधिक उदारवरलति दे खर्‌, मनि ली सपने परीचन व्रितिषट ददधिदणली र्‌ वहुव दी मूष्यवान्‌ अवदोष्‌ उचर छार, एन सन्धमाटाफ टी विन्त सर काकः ठि सर्वात्मना स्पे वमर्पिव कर दिया धा सथा भिन्ननि दस यन्थमाश्यका पिगतत १३१४ चवि पेश्वा सुद्र, सथ धीर सर्वादरणीय कावेफलट निष्यतन दा देख कर, मधिष्यतें चके कार्भेको घौर अयि प्रमतिमान तथा विग्वीर्ण स्परे देखने जने जीवनके एक मात्र परम शमिलापा रखी थी) भीर चदरचुश्नार) सेरी प्रेरणा भीर योजनाका धनुरथ करके व्रतत म्रन्यमादधकी प्र्न्थारमक पतरयच्यत्रस्या "मारनीय वियाभवनः चने समार्पव कर दनेयी मष्टती उश्ारता हा कर, भिन्ने दसै आके सम्बन्धं निस हो जनिक्री धन्ना फी थी; वद युण्यचान्‌, सादियरविक, उदारमनस्क, समरदानिदापी, जनिनन्दनीय सासा, अव दृ व्रन्थमाटि प्रका्नको प्रयन्ति देखने चयि दम्र स्रारसं पिद्मानर नहीं टे सन्‌ १९४४्की चखाद माख्की० वीं वारीयखको, ५९ व्पद्यी चयस्यामं ष्टन्‌ स्रासमा इत सोकमेते प्रस्यान कर गया उनके मन्य, आादुरणीय, रटगोय) अर्‌ श्छाधनीय जीयनको पनी फु खेद्यात्मक शर णांजछि' प्रदान करनेदेः निमित, उन जीयमका योढासा सप्ति परिचय भेम करना यहां योग्य पिमा

िवीर्जीवेः जीवनके; साथके मेरे शास खासन सरणोका विम्नृत नटेन, मनि उन पदी (सरद मन्थः फे सपर प्रकाद्ठितत किये गये (मरतीय विधाः नामक पचनिकरङ्गि नृतीय भागी अनुपूर्तिमिं पिया दे उनके सम्बन्धे बिदरोप जाननी इच्छा रखने वादे चाचककफि वह. शस्रारक अन्य. देखना चादिये |

भः

चारू श्री वदाद्ुर िदनीका जन्म चेगालके सुरिद्ावाद परगनेमं स्थित भजीमगेल नामक स्थानम सवत्‌ १९४१ मं हभा था वट वाच. डारचंद्जी ्िर्वकि एकमात्र पुत्र ये उनकी माता श्रीमती मचरु- कमारी अजीमर्गजके दी चद्‌ उधम वाव जय्चदजीकी सुपुत्र थी श्यै मच्कुमारीकी पक यट्न जगवतेयजीके य्ह य्याही ग्ट थी चौर दूखरी वदन सुप्रसिद् नाहर इटुम्बमें च्यादी गह थी 1 कटकत्तके स्व० सुप्रसिद्धं जन स्कर यर्‌ अग्रणी व्यक्ति चातर. पूरणचंद्जी नार, व्रात वदुर िटजी सिधीके मासेरे मादे स्िघीजीका व्याद बवादुचर ~ सजीमर्यजके सुध्तिद्ध धनाश्य जंनगृहस्य लक्मीपत सिदजीक्री पत्री योर चचपल प्वहयीकी पुत्री श्रीमती तिखकुदयके साथ, संवच्‌ १९८४ नें हमा या।

दस प्रकार श्री वहार संजी सिघीका कोटुभ्विक सम्बन्ध दालक खास्त प्रसिद्ध जेन छदटुम्योके साथे प्रगाढ स्पे संकटित्त था

वान्‌, श्री वदाट्ुर सिंहजीके पिता चाच. डाखचंदजी किवी वारक जेन सदाजनोमें शुक वहत दी भसिद्ध जार सरित शुस्प दो गये वद्‌ चपने वकरेटे खधुर्पायं ओर स्वउयोगसै, एकः वहत दी साधारण स्थिक व्यापारीकी कोटिमेते कोव्यधिपतिकी स्वितिको पहु थे जीर सारे व॑मारमे एक सुप्रतिष्ठित जद प्रामाणिक व्परापारीके स्पे उन्दने विरि व्यति प्र्षक्ी थी ! एक समय चे वंगाख्के सव्रते

िघीञेनग्रन्यमाखा। ६५

सुर्य "व्यापार अर्के सचते बडे भ्यापारो हो श्ये भे उनदध पुरषायसे उनकी व्यापारी पेदी भौ हरि सिह तिहारर्च॑दके नामस चरसी थी, यह्‌ वगारमें जूट॒सा व्यापार करनेयाठी देती वथा विदेद्री पेदी. येनिं सवस वद्ध चेदी गिनी जने लमी {

बान खाखर्चदजी सिधीका जन्म मंवद्‌ १९२१ मे हुमा था ओर १९३५ मे उनन्य शीमलुकुमासीफे साध विवाह इमा १४-१५ पकी भवस्यि डार्वंद जीने अपे पित्ताकी दुकानन्न कारमार, जो कि उस समय बहु ही साधारणरूपसे चद्धवा था, सपने हाथमे डिया वद जनीमगेज छोड कर छटकत्ता मवि ओर यर्दा उन्दने अपनी परिधमन्षीखता वथा उच्च नघ्यवमायके दारा कारमारफो घरि धीरे वहु ही वदाय जीर अंतमे उसको एक स्यसे वटे “फर्म के सवने स्पापित किया निप्ठ समय कर्कचमिं भजूट येसं प्सोक्तिषुराने'की स्वापना दुदर, रस समय वाव दारचेदजी विषौ उसके सर्वप्रथम प्रेतिदेण्ड यनाये गये. चटके ज्यापारमें दे भार सयते वड़ा स्यान प्राक्च करकैः वादः उन्दने अपना रुष्य दुरे दूसरे उोगोंदो लोर मी द्विया एरु लोर उन्दने मध्य्ान्दस्पितर कोरीया स्टेदमे कोयेकी खानेकि उचोगकी नीव डाटी जर दूसरी ओर दक्षिणके चकति ओर ्करूतराके राज्यो स्थिव चूनेकेः परयरतोदी पाने वथा बडगाम, मा्वठवाड़ी, इचलक्रंजी जेसे म्थानेमिं भटे हुं 'वोक्सादट' की सखामेकि विापङी दोधक्रे पीठे अपना टक्ष्य केच्दित सिया छोयकेके उद्योगके ल्थि उन्टनि्मेसर्म दाङचंद्‌ बहादुर इस नामरङधी नयीन पेदीकी स्थापना को जो क्रि घाज िटुम्तान्मे एकत अथ्रगण्य वेदी गिनी जानी टै इसके भतिरिकू उन्दोनि वंगा्कै चोवौसप्रगना, रंगर, पूर्णिया भादि परगनेमिं यष्टीः जमींदारी मी खरीदी ओर इस प्रहार वंगाट्डे नामांकित जमींदारोनिं मी उन्दने लपना खाप स्थान प्रा फरिषा ! पावृदा्चेदजीकी दसी सुप्रतिष्ठा केवट व्यापारिक सत्रे दी मर्यादित नहींथी॥ पद क्षपनी उदारा ओर धार्मिरुदङे स्यि मी उवने ही सुप्रमिदध, ये उनकी परोपकारत मी उवनी टी भरांसनीव थी परशु साथमे पसेपारसुरम प्रसिद्धिसे वे दूर रते भे हुत जयिक परिमागमें ये शुष रोतिसे दी अर्थौ जनको जपनी उदारवाश्रा राम द्विया करते वे उन्होने अपने जीवने खारक दान क्रिया दोगा; परंतु टकी भ्रसिदिकौ कामना उन्ेनि स्वसमे मी नदीं ढी 1 उनके सुपुत्र बू शी यष्टाटुर सिंदजीने प्रतंगवश युके कहा था कि ध्वे जो कुठ दान सादि ख्रते ये टसकी खवर वे सुश्च तपो भी गे होने देते ये !' द्रष्य उनङे दान सम्बन्धी केयर २-४ प्रघ्वोकी दी खवर मुद्ग प्रा्ठ दो सकी थी

सन्‌ १९२६ में “चित्तरंजन सेवा सदन ढे ट्य करका चंदा क्रिया गया था) उस समय पृक यार श्वुद म्ाघ्माजी उनके मधान पर गये थे तथ उन्दने विनार्मोगि दी मक्षसाजीको इस श्रय॑दे दिये १०००० दृष्ठ दलार्‌ रपये दिये ये 1

१९१० मे कलकतातं "ययनेमेण्ट रस" के मेदानमे, ठे कामीद्ररुके सभापततिर्यें रेदनो्के लिये पुक'उर्सव हषा था उसमें उन्दोने २१००० र्पये दिये ये; तथा प्रथम मदावुद्धके समव उन्दरनि &१००,००० रपय केः "वोर पोण्टवः खरोद रर सरकारी चमे मदद की थी 1 अपनी शतिम भवस्य्मि उन्षटोनि छपने निकट ऊुटुम्यी जने - जिनकी जाथिक स्थिति यदव दी साधारण प्रकारकी थी उनको - पारद छाख स्पये वार देनेदी व्ययस्या की धी) जिल्रका पाटन उने सुपुत्र पात माद्र सिहनीने क्या था।

यावृ खाछघंदलीका गार्ह्न्यजीचन युत दी भाद्दीर्प या उनकी धर्मपत्री रोमी मसवुमारी एक शादु ओर धर्मेपराग्रणा पमी थी 1 पति.पयी दोनो सदाचार, सुविचार जोर सुसंस्कारदी भूतिं चसे ये डाखर्ददजीका जीवन बहुव दी सदा साधुश्वसे परिपू था ्यददार भर व्यापार दोन उना असद प्रामाणिक ओर नीतिपूर्वह वतन या § स्वमा्से दे वहुद दी शान्त भीरं तिरभिमानी ये। ज्ञानमार्ग पर उनकी गरी शद्धा थी उनो पस्व्नानविपयद पुस्तकके पठन सीर शरयणी मोर्‌ लष्ययिङ सचि रदत यी शिखनगर कदिजके एक भध्याग्मलक्षी वंमा मरोके्र षाद्‌. पगखार खधिदारी, खो योगदिषयकः प्रफिपाठे अच्े अभ्यासो ओर व्वयितफः य, उनके सदहवाससे वान दाख्चदूगीदी मी योधिक परक््पिढी सूप खचि षहो गहू धी भर द्पव्यि उन्दोनि उने पायसे दस विपयषी छठ खात प्रणिपार्भोद यदत अम्याघ्र मी सिया था 1 दारीरिक स्वास्य अद माननिक पदिव्रनाश्य निषे दिख ये दसी ,म्याबह्ारिक जीवनके दिये धव्यंत उपयोमी, छिठनी दो सौमिक पद्रिया्भोरी सोर, उन्हेर्नि मपनीः पवौ वया पुत्र-दुतरी भादि मी जम्पस कले व्यि प्रेहितस्यिये।

६६ वाव श्री वदाटुरर्विहजी ~~ स्मरणांजचि

जन. धर्मक विशद द्रि प्रचार यर सर्वोपयोमी नेन सादिक प्रफाप्रानदे दिये भी उन दवि थी ओर पटिवप्रचर नुखरान्नीके परिचये धाद दक्त प्रयकं दि गरे छद तिय सथिम प्रपथः करनेकी उनकी उक्छण्टा जाग उदी थी) दृ उक्रण्टा को सूतस्य दनक चये ये कदरकन्ताम दस्य दपये खच दफे किसी सादिलिक या ओक्षयिक कन्यके स्थापित छरनेकी योजनाच्न चि्रर्‌ दरी द्य जिवन -एकाएक सनू ५९२० (वि, स॑. ५९८९ मम उनक्ना स्यर्मवरास हौ यया 1

[4 ~

वाव दाखचदजी भवी, जपने समग्रैः यना निवाश्री जन-समाचमं एकः स्यन्त प्रतिष्टिद व्यापार, दीवदद्री उद्यागपत्ति; वट जमादार, उद्रारयता सनूग्र्धन्य लार्‌ सादुचरित सस्पुद्प श्र धपती यष्ट सर्य सम्पत्ति जीर गुगवा समध्र चारा अपने सुयोग्य पुचर वानु. वषटादुर्‌ विद्यीष् सुपु फत्‌ गये जिन्दत्ते सपने दन पृण्यश्छोक पिवाक्री स्थृट सम्पत्ति ऊर मृष्टम सत्कीति-दोनोंको चदु दी सुदुर

प्रकारसे वरदा कर पिताकी पेक्षा सी सवाद श्रेष्ठता प्राप्त करनेन विद्विष्ट प्रतिष्टा प्राक्तक्ी मी]

चान श्री च्ादाटुर सिनी शपनं पिठाकरी व्यापार कुरटकता, व्याव्द्ारिक निपुणता जरे संस्कार सच्रिष्टा वो संपूण थमे वारकैः सत्पते उतरी दी थी; परन्तु यथः धरनिरिक्छ ठनमं मद्धि पितता, कलाध्मक रसिकता शौर दिविधविपयन्नारिणी श्राद्ध प्रतिमारा मी उष्य प्रकारया सश्िवे्द्भा या सार दृटिये चे एक सम्राघ्रारण व्यक्तित्व रणखनेवादटे महानुभा्याकौ परिमि रथान प्राप्त उरनेफी योग्यवा दाक्षि कर सकः थे 1

वरे अपने पिते एकमा पुत्र ये, चणय ठन पर, श्नपने पिताक विधाद कारमारम, यच्पनसेद्ी चिदेप रक्ष्य देने कैव्य श्रा पटा था फटस्यस््प वे दादरस्छ्टदय सस्थ्रासर पूरा कनेक सिवाय कँटिजमें ला छर्‌ अधिक अम्यात्र छरनेका सदसर धाद नही छर सक्च पिर सी उनकी छानरृदि व्ही परीव थी, अतणए्व उन्न सयमव द्विविध प्रकारक प्रादि्यकः वाचन जभ्याक्त व्व ही वदुमया अर्‌ दसखिये वे उंधिजीक सिवाय, वगाठी, दिद, युन्रानी नापा सी च्रहटुत खच्छी रष जानते रे यर्‌ दून भाषा लिखित धित्रिध पुम्तरककि पटने सततत निमघ्न र्ते चे

वच्पनसे ही उद प्राचीन वस्तुधि संग्र्टका मारी धोकुख्ग गयायां अर इसटिये ये श्रायीन सिक, तिरर, मतिं मार चेसी दूसरी दृ्नरी मल्यवान्‌ नीर्जोका संवद्‌ करनेयेः जस्यन्त रिक ष्टौ गये इसके साय उनक्रा जवादहिरात्की जोर सी सुव चरक चट गयाथा अवः चे क्त पिषयसे भीतर निष्णात वन राये ध्र दस परिणामन्वस्य उन्दने गपरने पा सिरो, चित्रो, दस्टिखिद श्ुसूस्य पुस्क् ाद्का जौ समृल्य संग्रह एकत्रित क्रिया वद्‌ जज हिदु्नानक दने गिन दश्‌ नामी समदि, एक मदस्वपूणय सन प्रप्त करे रेरा दे 1 उनके; भाचीन सिद्धं संम्रह ठो इतना सधि वियिष्ट परकाररा हं कि टसक्रा साज सारी दुनियामें तीरा या व्वाया सथान जाता विषयमे, एतन निषुणष्टो

गयेध्रेद्धि ब्द चद म्यूजियम स्यूरेटर मी वार वार उनके सखाद्‌ जार अभित्राय प्रा्ठ करनेक द्ये उनकं पास श्रतिरद्से ध्र

. चे छने येते टच सरक्त कके कारण, . दे विदे ्रसी , सास्छृतिक प्रद्रत्निर्या करनेवाटी सन्म रर्थानकर सदस्य जाद्वि चने त्रे उदादरणखस्प-ररोयट एदियाटिक सोसायरी सफ वमार, समरकन ज्य््रोपरिकट सोलावदी न्यृयोकि, वंगीय साहिल परिपद्‌ कट्कन्वा, न्यूमेस्मेटिक सोसायटी वफ इण्डिया -ददयादरि थने प्रसिद्ध सस्यानि वे उष्सादी समापद्‌ ये

साहित्य सार शिक्षण विषयक व्रवरत्ति करनेवाढी जैन तया ऊनेठर अनेको संस्यार्मोको उन्दने युष्प्मनसे दान दे करक, टन विषयेति प्रसारं पनी उच्छट यसिखुचिक्रा उत्तम परिचय दिया धा {उन्न दृ करार करिवनी संस्थाको यार्थिक सदायत्ता दी थी, उसकी सम्पूण सूचितो नही सिख स्कीदटै। रेस

कायम चे जपने पिरक . दी वरह, धायः मौन रहते वे जीर इसके चयि अपनो प्रसिद्धि पराच करनेकी

नहीं

जो सख श्र 1 उनके साच क्रिस क्रिसी वक्वग्रसंमोचित वार्वाखाप.करते समय, इस सम्बन्धी जा भ्न बहुच. वरना न्नाच "दो स्कीं उसके जाधार परसे, ` उनके पाष्ठसे धा्थिक सदारा प्राप करनेव्राडी छट

त्यावर नाम सादि इस व्रकार जन छकार्हू\ - ` ` ,

८7 -सिधीलैनभन्वंमाखा ` ९५ - दि धकेडमो, दोरवषुर ( वेगा ). र० १५००९) सरकी-उरवूः यगाडा. ५०००} दिदी-पतादित्य परिषदूभवन (-इटाहावाद्‌ ) १२५००] बिद्द्धानेद सरखती मारवादी दस्पीटष्ट, कररुत्ता, १००० ०] पुरू मेरि योम कलकत्ता, २५००} वनारस हिंदू यूनिवर्षिदी. २५० ०) जीयागज्ज दाद्स्छल, ५०००} जीयागज्ञ लण्टन मिदान हेस्पीटछ. ६०० ए] कलकत्ता -सुर्षिदायाद सेन मन्द्र, ११०० 2) जैनधर्मेमचारक समा, मानमूम. ५०००} रौनभवन, कलकत्ता, १५०० ण] मैन पुख्ठक भ्रचारद मण्ड, जागरा, ७५० ०) जन मंदिर, सागरा. ३५००) सेन हादस्छछ, अंगाया. २१०० ०) जैन प्राहृवकोपे णिवे, २५० भारतीय विधामवन, वषटू. ¶००० ०)

॥.1

सके भतिरिच्छ हनार-दजार, पचर्यचसोकीसी छोटी मोटी रकम तो उन्दने संकटो की सैप्य दी ष, निष्का योग कोषे ठेढ दौ साखसे भी भधिकरु होगा

सादिद्य ओर दिक्षणफी भगतिके टिये सिधीजी दितना उरसार उयोग दिष्टि थे, उत्ते दी यै सामानिक प्रगतिके स्वि भी प्रयलद्ीट ये 1 अनेक वार उन्होनि रसौ साप्राजिर्‌ समाजं दतयादिरमे प्रसुख रूपसे भाग ठे करके सपने दस बिषयका सान्तरिक उत्साह जर सहकारभाव प्रदरसित किया था सन्‌ १९२६ मे वषमे होनेवाडी जेन श्ैताम्बर केन्पिरन्सकै स्वाप्त अधिवेशनके चे सभापति गने ये उदयपुर राभ्यमे भये हुए केसरीयाजी सीर्थकी व्यवस्थाङे विषयमे स्टेट साथ जो म्रक्न उपस्थिव हुभा या उसमें उन्दने ससे भविक तन, मन ओर धनसे सद्मोग दिया था दस प्रकार वे जैन समानके दिवी भ्रदृत्तिमोिं यथायोग्य सम्पूण सदयोग देते ये; परेतु इसके साथ चे सामानिक मूढघा अर क्ाम्प्रदायिक कटटरचकर पूणं विरोषी मी ये घनवान ओर प्रतिष्ठित गिने जाने वा दृखरे रूदिमक्त भनक तरह पे संकीणै मनोद्ृ्ति या अन्धश्रद्धाकी पोपक विक्त मिसे समथा परे रहते थे भाचार, विचारे एवं व्य्हारमे वे हुत दी उदार जीर विवेकश्चीटं ये

उनका गस्य जवन मी यहद सादा जोर सार्विक या धंगाख्के निस प्रकारके नवायी गिने जानि पाठे वादाबरण्मे बे पैदा सीर वडे इुएु ये उस वाठावरणो उनके जीवन पर ङख मी खराय अर्‌ नहीं इह थी. जीर चे खगभग उस्र बाचावरणसे विरङ्र मरि ससे ये 1 इतने वदे श्रीमान्‌ होने पर सी, श्रीमेतादइके - धनिकता दुरे विलास या मिग्या आदभ्वरसे चे सदैव दूरं रहते ये दु्येय ओर दु्येसनके ग्रति उमा भारी निरस्कार था 1 उनके समान स्ितिचाठे घनवान जय अपने मोज-दौङ, घानेदु-ग्रमोद्‌, विखास-पवास, समारम्मनमद्ोच्छव दलदिमें रलो सपये उक्ति ये ठव संधी उनसे परिकङुरु विसुख रहते ये उन्न दारू केवङ अच्छे वाचन ओर कठामय वस्तुमो देपनेका वथा संग्रह फरनेका या जव देख्छो घव, चे लनी मादी पर वैटे यैटे साहिवय, इतिहास, स्यापय, चिच, विक्तान, भगोर ओर भूगम॑विधासे सम्बम्ध रखने वाटे सामयिको या युखङोर परते दी दिखा दिया करते ये अपने येते विषिष्ट वाचनके दैकके कारण वे अंमेजी, ंगलो, ददी, युजराती भादिमे प्रकाक्षित होने बाट उश्च कोटिक, उच्छ विषयोंसे सम्बन्ध रनेवादे परिदिघ श्रारषे सामयिक पत्रों सौर ज्ररे नियमिव स्पसे ममते रहते वे ओ, धारङमखजी, एपी्राफो, उयोग्रोपा, नादरो, हिस्से आर मादनिद्क भादि विषयो पुस्दङवनि उन्दने भपने पाप्न पु ञच्टी खद्ूमेयी टी यना खी थी

यै स्मावसे पुन्वप्रिय ओर लदपमा्पी ये व्य्यरो वतिं कूडनेफि श्योर या गप मालेकी भोर उनका बहव दीः अभाव रवा या जपने ध्यावसायिर व्यदहारको या विशा कारभारकी बातमिं मी चे

&८ ख० घाव श्री वदादुर्धिदली सधी = समरणाजलि'

वहत ही प्रितभाषी ये प्रतु जत्र उनकं प्रिय विषयक जत्र. कि स्थाप, द्तिद्ा्षः पित्र भादि वच॑ दती तच उसमे ये दते निमश्र हो जाति येकरिकरितनेही चण्डे व्यत्तीतष्टो जने परर भीवे उससे थक्ते नदीं ये जर किसी तरटकी च्याकटताका अयुसव करत ! उनकी युद्धि जदं दीक्ष्ण थी किसी सी वस्तुको ससदने या उसका मरं पकटनेभं उनको योदा सा मी समय नहीं ख्यवा था चिक्ञान आर चस्वसानकी गंमीर वातिमी वे भ्टी तरह समया सकते त्र चौर उनका मनन करके उन्हें पचा ठेते ये} तकं ओर दठीख्याजीम चे यद बहु कायदावाजेतति मी वाती मार ठेते थे तथा चाहे जैसा चाटाक मी उन्हं भपनी चखाकीसचे चदि या सुग्धनहीं चना सक्ता था। यपे चिद्धान्त या बिचार वे चटु ही च्दुमनस्छ थे एक वार कोट विद्धा निश्छिद षटर ठेनेके वाद्‌ सीर किसी कार्यका स्वीकार कर टेनेके वाद्‌ उसमे चट-विचख होना दे चिटङक परेद नहीं करते घरे 1 व्यवदारमे सी वे बहुत ही प्रामाणिक बरतिया घरे दूसरे धनवासेकी चर व्यापारसं छट-मपंचः धोलावदी या सच-चूट करके धन प्रात करनेकी चष्णा, उनको यिचि सी नदीं टोवी थीं 1 उनकी देसी व्यावहारिकः प्रामाणिकत्तक्रो रक्ष्यमे रख करके दग्टण्टकीं मर्केन्यद्रय वद्र खायरषटयोी वोदे अपनी कटकत्ताको प्राखाके योर, एक टाप्ररेवटर दोनेके दिये उनसे साप्र प्रायता पीथी टक पटले किसी सी दिटुसतानी च्यापारीक्रो यष्ट मान प्रा नरह दुघा या। परिमा जीर प्रामाणिकताक्ते साथ उनमें योजनानि मी यहुत उय प्रकरी थी } उन्होनि अपनी दही स्वतंत्र वुद्धि ओर ङश द्वारा णक खोर सपनी ब्रहुत बड़ी चमीदरीक्री जीर दृश्य सोर कोटिया चादि मादनिद्रके उथोगकी, जो सुव्यवसथा सीर युवटना को खी; उसे देख करफे उस-उस विषयकः श्वाता लोग चकित हो जाते थे अपने घरे छोरे से छोटे कामे युर करट कोटधियायी जने वटे कारखाने तकम ~ जौ दिः दजारो मनुष्य काम करते रहते - बुव दी नियमित, सुव्यवस्थित सोर सुयोनिस रीतिख्े काम चखा करे, चैसी उनकी सद्‌ा व्यवस्था रती थी द्रग्रानसे रगा फर अपने समवयस्क जेषे घुन्नो तक्रे, एक समान, उच्च धकारा श्िस्त-पाडन ओर क्षि्ट-साचरण उनके चदं द्टिमोचर टता था सिधीजीम पुसी समथ योजकशक्ति होने पर मी, सौर उनके पाल सम्पूणं अकारकी साधन-सम्पन्नता होने पर भी, वे भ्रप॑चमय जीवनसे दर रते प्रे ओर जपने नामकी पर्तिदिके चये मा सोमस चद दमी गिनानेके दिवि वसी कोर रत्ति नहीं करते ये रायवदा्ुर्‌, राजाय या सर-नादट यादि सरकारी उपाधियोको धारण करनेकी या कोंसिरोमे जा करके सनरेवल चननेकी उनकी ` कमी च्छा नहीं हुदै थी पेसी जटम्बरपू प्रदरत्तियमिं पैसेका दु्व्यय करनेकी वेका चे सद्र सादिलयोपयोगी ओरं रिक्षणोपयोगी कायम अपने धनका सदव्यय क्रिया करते धरे भारतवर्षकी प्राचीन क्ष्य जर उक्तस संवध रखनेवाडी प्राचीन वस्तुभांकी जोर उवक्ता उत्कर यजुराग था जर दरसहिये उस पीट उन्मि खाखों रूपये खर्च क्रिये ~^

स्िथीजी के साथ मेरा ग्रलक्ष परिचय सन्‌ १९३० मे प्रारम्भ हुजा। उनकी इष्टा अपने सदूगत पुण्य- शलोक पित्ते सारकमे, निससे जैन साहिलका प्रार ओर यकाय दो यैसी, कोर विदिष्ट संस्था स्वापिति करनेकीं यी मेरे जीवनके सुदीधैकारीन सहकारी, सष्टचारी ओर सन्मित्र पंडित्रवर 'श्रीसुखखारुयी, चाव श्री डारचद्जीके ठिरोष श्र्धामाजन धे; मत्व स्री बहादुर सहजे सी इन - पर ` उवना ही विलि्ट सद्भाव रखते ये पंडितिजीके पराम ओर यरस्तवसे, उन्दने शुदे इख कार्यकी योजनः सर व्यवस्था हाथतें ठेनेके चियि प्रा्यनाकी सओरेनेभी अपनी -लमीषटतम प्रतरृत्तिके जाददेके भनुरूप, .. उत्तम कोटिक साधनक प्रक्षि हेदी देख कर, उका सपं भौर सोद्धास खीकार किया 1 . ` सनू १९३१ फे पदे दिन; विश्वत कवीन्द्र श्री .रवीन्द्रनाय टाद्रके विभृत्िविदटारसमान विश्वविख्याच शान्तिनिकेनक्रे चिखमारतीविच्यामवनमें “पिघी जैन क्ानपीठः खी स्यापनाकी ओर चे जैन साहिल के अध्ययन - अध्यापन जर.संदोधन -संपादन धादिका कारय प्रारम्भ किया इस धरस्षगसते . सस्यन्धितत कुछ प्राभमिक वरभेन्‌, दख अन्यमालामे सवके प्रथम यकासित श््रवन्ध चितामणि" -नामक अन्यक परखावनमें दिया.गय। दसदिये उसकी यहां पुनरक्ति करना. मनावद्यक ह्‌ .। - ५. सिंप्रीजीने मेरी परेरणासे भसेषी लेन ्षानपीठः को स्वापन साय, चेन्‌-साहिलके उंतमोत्तम यन्य रजको चाघनिक दाखीय पदडतिप्वक, योग्य लिद्धाने द्रःस खुन्दर रीतिसे; संशोधित ~ संपादित करवके

प्रकवरित करनेके चिरि मर तनै करते. जेन स्ाहिलक्ी सार्वजनिक अतिष्ठा स्थापित करने लिये हष शदिषरी

¢ सिंधीसैनमन्धयमाला। १६९

चैन अन्यमाखा, छो दिर्मि्ट योजना भी सदं स्दीरार पिया घौर दसद लिये भाव्य सौर भपेश्चित अर्थव्यय करनेका उद्र उरसाईं भ्रदुचित क्रिया 1 भरारम्भमें सान्विनिक्तिनङो र््यमे रख कर, एक वर्षका कार्यक्रम वनाया गया ओर तदनुषार वद फ़ाम प्रारम्म किया गया परन्ठ॒ इन चीन वके अनुमवके यन्मे, शान्विनिङ्ेतनका स्यान सुस लपने कार्यं भौर खास्व्यकी दष्िसे यरायर बनुश्क प्रतीव नदीं हुभा जदव घनिच्टापू्वक सुद्धे वद स्थानं छोढ्ना पदा जीर षदमदावषद् गुखरात विद्यापी टके सचिष्ट ध्यनेकान्तविष्ठार' यना करके वो इम कार्यको श्रदृत्ति चाद. रपी इस अन्यमाखमे प्रमित अन्थोरी सर्वत्र उत्तम प्रशमा, मसिद्धि र्‌ ग्रनिषटा देख कर सिधीजीकः उप्साद सृघ्र वदा योर उन्दोनि इम सम्बन्धे जितना ख्यं हो उवना सर्धं करनेकी, जीर जसे बने देष थधिक संग्यामे अन्य प्रक्णशित होते हुए्‌ देष्नेकी धपनी उदार सनोषत्ति मेरे सामने वारंवार प्रकट कौ मं मी उनके देते धूर्व उस्साष्टसे ररित ्ो कर यथाशन्ि इस कार्यो, अधिक से भधिक वेग देनेके लिये प्रय्रवानू रह सनु १९३८ के जुखदे मासमे, मेरे परम सुद्‌ श्रीयुव कन्देयागार माणेकाट सुंशीका-जो उष सभव चेवहफी क्रिस गवनमेण्टफे गृहमेत्रीके उश्च पद एर अधिष्ठित धे -भकखात्‌ एक पत्र मुके गिरा; निमे दन्दमे सूचि छिपा या रि "सेढ सुंगालाख गोएनकनि दो खाख स्पर्योफो एक उदार रकम सुतै सुप्रत की है, जिषका उपयोग भारतीय धिच किसी विशासाण्मक कारके टिये करना है जर उपे चयि विचार-विनिमय करने तथा तदुपयोगी योजना वनानेके सम्बन्धमें मेरी बाध्यता ट्र अवपुव सङ्घे तुरत चेष्टे भना रै” - द्यादरि तदनुमार भ्न तरव वयह लाया ओर टम दोनंनि साथे भढ करक दस योजनाफी सूपररेखा तेयार फ; भीर उमम गनुमार संवत्‌ १९९५ फी कारिक शुह्धा पूर्गिमाके दिन, धी सं्ीजीके निवात्तस्पानपर ^भारवीव पिद्ामवनः की, एक चृत्‌ समारम्गरे साध, स्थापनाकी गड भवनरे विकासे हिचे भ्रीसुंसीजीका अथर उद्योग, भण्ड उत्साह उदार मारमभोग देख कर्‌ मेरी मी नके चमे यथायोग्य सहकार अर्पिव करमैकी पूण उक्कण्ठा हु ओर दरी भान्दरिक स्यवस्यामे प्रयु स्पे भाग ने खगा मवनकी विविध प्रदृचियभिं सादिलय प्रदणन सम्यन्धी जो एक विशिष्ट प्रवृत्ति स्वरव फी गह थी, वह मेरे इष अन्यमारकते कायके साथ, प्रकारसे परस्परं सादा“ यष श्वस्पफी दही प्ष्त्ति थी लतपुव सुसे यद प्रचि मेरे पू-भंगीक्ृव छाये वाधक नषे एर उख्टी साघकषटी भरी हुई ओर दत्य मैने इमे ययाशकि धपनी विशिष्ट सेवा देनेका निर्णय सिया! तिधीचीो जच दस साती यस्तुस्पितिसते परिचित स्यि गया, ठव ये मी मवने कार्यम रषयेनेङगे सर इसे संस्थापरू सदस्य यन करके दसकैः कार्ये प्रति उन्दने सपनी पूर्णं सानुमूति भफट की चैसे शनि अपर यव्रलाया दे वैसे, प्रन्थमराटदैः विरासके छिथ सिंपीजीका उष्साह भदन्त प्ररंतनीय याओर दसश्ियि मे मी मेरे स्वास्थ्य चदि किसी परद्ारकी प्रवाद सिये विना, दुत्त कार्यी परगति स्यि स्तठ प्रयत करवा रद्वा था परन्तु प्रन्यमाखारी व्ययस्थाका सयं प्रकारा मार भेरे ऽ्ेधेके सिर पर ्ाध्ित धा, भवय्‌व मेरा शरीर छव यह्‌ ष्यषस्या करता करवा सक जाय, सय दसी स्विति क्या होगी हसा पिघार्‌ भी भ्रं वार॑वार क्ियिः करता या॥ दूरी भोर प्िधीजीफी सी उत्तरावस्य। नेसे धे यार्वार भद्वरय होने रगे ये सर चे भी जीवनी मस्थिरताको नामाप भनुमव करे छने ये दसरिये मन्य. मारा भावीके विषयमे कोर स्यिर दीर सुनिश्चिव योजना यना ठेनेकौ कश्यना थरायर छते रदतेये मा० चरि० भवनढी स्यापना होनेषे बाद १-४ वपम दी दसके काय॑की विद्रानेमिं भच्टी तरह भरसिदि सीर प्रति अमने ख्यी थी सीर पिविध दिपयकू सध्ययन-जप्यापन ओर सादिदिरू संशोधन-मंपादुनदा कायं अच्छी दददसे खगे यद्रने खगा या1 यद देख कर ुहदूवर सुंदीजीडौ खास भासाह हुहे कि "सवी मैन प्रन्यमालाङो ादेव्ययस्थाका सम्बन्ध यदि मवने साय सोद दिया जाय, यो उसतते परस्पर दोनेरि कार्ये संदर अभिदृद्धि होनेकेः धतिरिषठ प्रन्यमाटाको स्यायी स्यान प्रप्त होमा अर भयनको भी पिचिष्ट भतिष्टयी प्राह होनी, अर इत अश्चर सन्मे ैन-राखेदिः मप्ययगणा भीर जैन-साहिदके ग्रफश्षनङा पुक अद्वितीय दन्द वन दायगा श्रीयुश्षीसीषी यह द्युमाकादा, म्न्थमाटा सम्बन्पी मेरी मारी चिहाद् योग्य रूपे निवारण एतनेयाठी प्रतीच रुई ओर दमथिये 9 उत दिषो योजनस्य दिर छने टमा यपावसर सिधीखीखो भने थीयुंतीजीकी भास्क्ला यर भेरी योना सूचित षी! पे भा वि स्यापकमदून्य घो ये षौ जोर सदुपरान्ठ धीयुंदीरीके स्य येष्टस्बद मिन्र भी यै दषटिये

"उयो सीव कयना ठैने योग्य भत्रीव दई एरिवदयर यी सुख्खाखजी जो दस प्न्यमालषेः क्‌ 2

नि)

६१० सल० वाव श्री वदाटुर विदली तवी ~ स्मरणाजयि

सारसे दी. थंतरः दितचितक सर सक्रिय सहायक रटे ह, उनके सायं सी टस योजनाके सम्बन्धे. मने उचित पराय्ी किया यर संवत्‌ २००१ वेदाश्च शुद्ध (मदे सन्‌ ५९४२ ) सं ्विवीजी काय

प्रसद्धसे चवर लाये वव, परस्पर निश्रीद चिचार-निनिमय कर्क, दत यन्यमाखारै प्रक्ाद्रनसम्वन्धिनीं सर्व॑ व्यवस्था सवनके अधीन को गष विवीजीने दके घतिरिक उतत अवर पर, सेरी प्रेरणासे अवनको दृसरे ओर १० इजार द्पर्योकी उदार रकप्र भी दी, जिसके द्वारा भवनम उनके नामका एक न्ट वाधा जाय ओर उस्नं प्राचीन वस्त॒भां तथा चिच्र चादि संग्र रखा जाय}

भवनकीं प्रवंधक समरितिने सिधीजीके इस विदिष्टं आर्‌ उदार दान प्रतिवापर्पर्म मव्रनसं प्रचित शनशाख-रिश्वणविागन्को सायी रूपतते (सिंघी जेनदयाख दिष्छापीट' के नामसे प्रचित रखमैक्ा सिद्धप लिय क्रिया 1

यन्थमाखाकरे जनक सीर परिपाटक विंवीजी, भारम्भसे दी इसकी सर्य प्रकारकी व्यवस्था भर मेरे

उपर छोट क्र, वे तो केवट खात इवनी दी आकांक्षा रखते ये कि मन्थमारमें किस वरद अधिकाधिक ग्रन्थ प्रकादितत अर कैसे उनका अधिक प्रसार दो दस सम्व्रन्धमे जितना खर्च हो उत्तना वे बहुत दी उत्साटसे करनेके दिये उल्मुक थे भवनको अन्थमाल्या समर्पण करते समय उन्हे सुन्तसे कदा प्रि~ "व तक तो वर्प दसगभग २-३ दी यन्थ प्रकट होते रदे परन्तु यदि चाप पकाशित्त कर सके सो प्रति मासयो दो अन्य प्रकाथिच दते देख षरभीमंतो यनक दी रटरेगा जव त्तकः भ।पका यर मेरा जीवन हे चव त्क, जिना साहिल प्रकट करने -करानेकी पक्षी इच्छादो तद्रुद्र यप यउयचस्था करं। मेरी रसे आपको पैसेका ओरोडासा मी संकोच प्रतीत नदीं दोगा |: जेन सारियक्रे उन्धारक दिये पेसी उत्कट याकोक्षा जर देसी उद्रारं चित्त्रतति रखने वाखा दानी ओर्‌ चिनच्न घुरप, मनि मेरे जीचनमें दूसरा यर कोष्ट नही देखा अपनी उपस्थितिं दी उन्दने मेरे द्वारा अरन्धमालाके खाते लगभग ७५००० (पोने खख >) रूपये खच किये दने परन्तु उन ५५ पके वी चमं एक चार मी उन्दने शुच्रसे ` यह ` नहीं पृद्धा करि कितनी रकम किशर मन्थके लिवे खच की ग्रहे य्ा किष यन्थके सम्पादनकरे लिये किसको क्या दिया गया है? जव जव्रसें प्रेष इलयादिके विट उनके पास यैजवा तव तव, चे सो केवर उनको देख कर दी ्ोफिसमें वह रकम चुकानेकी रिमाकैके साथ मेज देते। मं उनसे कभी किसी विख्के वरिमें वातचीत करना चादता, तो -मी' वेः उस विपयमें उस्ताद नहीं वतते चोरं इसके वजाय अन्थमाटाकीं सादज, यद्रपः प्रिटीग, वार्दर्दीग, डहेडिद् जादिके वारेमें वे चूर सुष्धमततापूर्वक विचार करते रदे भोर उस सम्बन्धमें चिस्वारसे चचां क्रिया करते उनकी देसी अपृ क्षाननि्टा ओर इ्ानभक्विने दी सुश्च उनके